राजस्‍थान: स्‍पीकर ने SC में कहा- मुझे कारण बताओ नोटिस देने का अधिकार, पायलट-हमारा पक्ष भी सुनें

News Nation

नई दिल्‍ली: राजस्‍थान में सत्‍तारूढ़ कांग्रेस पार्टी का सियासी ड्रामा सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. राजस्थान के स्पीकर सीपी जोशी ने हाई कोर्ट के आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. स्पीकर ने HC के उस आदेश को चुनौती दी है जिसमें कोर्ट ने 24 तारीख तक सचिन पायलट और उनके खेमे के 18 विधायकों के खिलाफ कार्रवाई नहीं करने की बात कही है. सीपी जोशी ने कहा कि स्पीकर के पास कारण बताओ नोटिस देने का पूरा अधिकार है. इस पर सचिन पायलट गुट ने सुप्रीम कोर्ट में कैविएट दायर करते हुए कहा कि उनका पक्ष सुने बिना कोई आदेश जारी ना करें.

स्‍पीकर की याचिका
विधानसभा अध्यक्ष ने वकील सुनील फर्नांडीस के जरिए दायर याचिका में कहा है कि अयोग्य ठहराए जाने की प्रक्रिया विधानसभा की कार्यवाही का हिस्सा है और इसलिए अदालत शुक्रवार तक इसे टालने की बात कहकर इसमें हस्तक्षेप नहीं कर सकती.

बाद में, एक अन्य मामले में प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष की याचिका जैसी याचिकाओं का तत्काल उल्लेख करने और उन्हें सूचीबद्ध करने के लिए शीर्ष अदालत में एक तंत्र होने का मामला उठाया.

उर्वरक घोटाला: अशोक गहलोत के भाई के खिलाफ ED की छापेमारी, मनी लॉन्ड्रिंग का केस दर्ज

प्रधान न्यायाधीश ने सिब्बल से कहा कि वह याचिका को तत्काल सूचीबद्ध करने का मामला शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री के समक्ष उठाएं.

विधान सभा अध्यक्ष के वकील इससे पहले दो बार इन बागी विधायकों को जारी कारण बताओ नोटिस का जवाब देने की समय सीमा बढ़ाने संबंधी हाई कोर्ट के अनुरोध पर राजी हो गए थे.

LIVE TV

व्हिप का पेंच
उल्लेखनीय है कि कांग्रेस ने पार्टी व्हिप की अवज्ञा करने को लेकर विधायकों को राजस्थान विधानसभा की सदस्यता से अयोग्य घोषित करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष से शिकायत कर रखी है. इसी शिकायत पर अध्यक्ष ने बागी विधायकों को नोटिस जारी किए थे.

हालांकि, पायलट खेमे की दलील है कि पार्टी का व्हिप तभी लागू होता है जब विधानसभा का सत्र चल रहा हो.

कांग्रेस ने विधानसभा अध्यक्ष को दी गई अपनी शिकायत में पायलट और अन्य असंतुष्ट विधायकों के खिलाफ संविधान की 10वीं अनुसूची के पैराग्राफ 2(1)(ए) के तहत कार्रवाई करने की मांग की है. मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के खिलाफ बगावत करने के बाद पायलट को उप मुख्यमंत्री पद और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पद से बर्खास्त किया जा चुका है.

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *