मुंबई में 12 साल की लड़की ने मांगी लाखों की फिरौती, वजह जानकर रह जाएंगे हैरान

News Nation

मुंबई : देश की आर्थिक राजधानी में परेशान लड़की ने माता-पिता को धमकी भरा ई-मेल भेज कर लाखों की रंगदारी की मांग की . नाबालिग का कहना था कि उसके माता-पिता उस पर ध्यान नहीं देते थे इसलिए उन्हे सबक सिखाने के लिए उसने ऐसा किया. ई-मेल के जरिए दी गई धमकी में पैसा नहीं मिलने पर जान से मारने की धमकी दी गई थी. पुलिस ने मंगलवार को इसकी जानकारी देते हुए कहा कि लड़की के पिता पेशे से बैंकर हैं. मोबाइल फोन का इस्तेमाल बैंकर की 12 साल की बेटी करती थी.  उसने अपने माता-पिता की उपस्थिति में कबूल किया कि सारे ई-मेल उसी ने भेजे थे. 

EOW ने शुरू की थी जांच
मुंबई पुलिस की अपराध शाखा (Crime Branch) ने केस हाथ में लेते हुए भारतीय दंड संहिता ( IPC) की धारा-387 (व्यक्ति को जान से मारने का भय या फिरौती के लिए नुकसान पहुंचाने की धमकी) के तहत प्राथमिकी दर्ज की थी. उन्होंने बताया कि 21 जून को बैंकर ने बोरिवली पुलिस से संपर्क कर उसे और उसकी पत्नी को फिरौती की धमकी मिलने की शिकायत की जिसके बाद अपराध शाखा की नौवीं इकाई ने अपनी जांच शुरू की.
अधिकारी ने बताया कि तकनीकी अन्वेषण से पता चला कि ई-मेल बैंकर के मोबाइल फोन से भेले गए हैं और यहां तक फिरौती के लिए भेजे गए तीनों ई-मेल का आई पता एक ही था. 

पहचान का सस्पेंस
अधिकारी ने बताया कि ई-मेल भेजने वाले ने खुद को चीनी नागरिक बताया था, जो शिकायतकर्ता के परिवार के सभी सदस्यों को जानता था , और इस नोट के साथ एक लाख रुपये की मांग की.  यह ई-मेल अलग-अलग आईडी से भेजी गई.’’ लेकिन धीरे- धीरे रंगदारी मांगने वाले ने इस रकम को बढ़ाकर 1.2 करोड़ रुपये कर दिया और मांग पूरी नहीं होने पर शिकायतकर्ता, उसकी पत्नी और दोनों बेटियों को जान से मारने की धमकी दी गई थी.

असुरक्षा की भावना बनी वजह
पुलिस टीम के मुताबिक, ‘‘लड़की ने बताया कि उसे लगता है कि उसके माता-पिता उसपर ध्यान नहीं देते बल्कि चार साल की उसकी बहन से ज्यादा प्यार करते हैं. ’’ उसे लगा था कि बार-बार की डांट का बदला लेने के लिए इस तरह मेल भेजना सही रहेगा. अधिकारी ने बताया कि लड़की के माता-पिता ने आगे की कार्रवाई करने से इनकार कर दिया, इसके बाद आगे की कार्रवाई के लिए संबंधित जानकारी हमने बोरिवली पुलिस की अपराध शाखा को दे दी. 

इनपुट: भाषा

ये भी देखें-

Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *